राइट्स
English Version मेरा ईमेल
खोजें 
 
 
 
 
आप यहां देखें :: मुख्‍य पृष्‍ठ :
भारतीय रेल राज्य मंत्री ने भारत द्वारा निर्यात किए गए लोकोमोटिव्सं म्यांमार को सौंपे
March 26, 2018 12:35 pm

भारतीय रेल राज्‍य मंत्री ने भारत द्वारा निर्यात किए गए लोकोमोटिव्‍स म्‍यांमार को सौंपे

Mynma Rly

 

19 मार्च, 2018 को नेय पि ताव, म्यांमार में लोको सौंपे जाने के लिए आयोजित समारोह

माननीय रेल राज्यथ मंत्री श्री राजेन गोहांई ने डीजल लोकोमोटिव्सं वर्क्सी, वाराणसी, भारत द्वारा निर्मित और राइट्स द्वारा म्यांथमा रेलवे को निर्यात किए गए 18 ब्रंड न्यूं एसी डीसी -1350 एचपीडीजल इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव औपचारिक रूप से म्यांममा रेलवे को सौंपेने के लिए आयोजित समारोह में भाग लिया. समारोह में महामहिम यू थांट सिन मोंग, माननीय परिवहन और संचार मंत्री, म्यांयमार, म्यांहमार में भारतीय राजदूत महामहिम विक्रम मिस्री, श्री यू थुरियन विन, प्रबंध निदेशक (म्यांरमा रेलवे), श्री मुकेश राठौर (निदेशक तकनीकी) राइट्स एवं म्यां्मा रेलवे तथा राइट्स के वरिष्ठं अधिकारी उपस्थित थे. 

इस अवसर पर अपने संबोधन में  माननीय रेल राज्य मंत्री श्री गोहांई ने पिछले 20 सालों से नियमित रूप से दो रेलवे प्रणालियों के बीच घनिष्‍ठ सहयोग पर खुशी व्‍यक्‍त की. उन्होंने राइट्स को समय से काफी पहले परियोजना को पूरा करने और पूर्व में निर्यात किए गए लोकोमोटिव के मुकाबले नई आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित लोकोमोटिव प्रदान करने के लिए बधाई दी. उन्‍होंने कहा कि यह इंडियन लाइन ऑफ क्रेडिट में पूरी की गई पहली परियोजना है. उन्‍होंने विनिर्माण सुविधाओं, प्रशिक्षण और तकनीकी जानकारी पर भारतीय रेल के पूर्ण समर्थन का आश्वासन दिया और परियोजना को सहजता से पूरा करने में म्‍यांमार के प्राधिकारियों के साथ पूर्ण सहयोग करने व उन्‍हें सहायता देने के लिए म्‍यांमार स्थित भारतीय दूतावास को धन्‍यवाद दिया.
उन्‍होंने महामहिम यू. थांट सिन मोंग, माननीय परिवहन एवं संचार मंत्री को अपनी टीम के साथभारत दौरे का न्‍यौता भी दिया ताकि वे भारतीय रेल की सुविधाएं देख सकें तथा म्‍यामांर की विकास यात्रा में सहायक समन्‍वय क्षेत्रों की पहचान की जा सके एवं भारत के पूर्वोत्‍तर क्षेत्रों के साथ और बेहतर संपर्क बनाया जा सके.
महामहिम यू. थांट सिन मोंग, माननीय परिवहन एवं संचार मंत्री ने अपने भाषण में दोनों देशों के बीच मूल्यवान सौहार्दपूर्ण संबंधों की चर्चा करते हुए उन्‍हें और बेहतर बनाने के बारे में कहा. उन्होंने भारतीय रेल द्वारा दिए जा रहे प्रशिक्षणों तथा सिगनलिंग और दूरसंचार प्रणालियों में गहरी दिलचस्पी दिखाई.
म्यांमार में भारतीय राजदूत महामहिम विक्रम मिस्री ने अपने संबोधन में रेल इंफ्रास्‍ट्रचर परियोजनाओं के विकास में और अधिक भागीदारी के लिए पूर्ण सहयोग देने का आश्‍वासन दिया.
रेल राज्‍य मंत्री का यह दौरा निश्चित रूप से मालभाड़ा तथा यात्री सेवाओं के लिए रेल के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग को सुदृढ़ करेगा.
राइट्स, भारतीय रेल के अधीन एक सार्वजनिक उपक्रम है जो विदेशो में विभिन्‍न परियोजनाओं  के लिए रेलवे  की ओर से निर्यात करता है. इसने म्‍यांमा रेल को 18 नए माइक्रोप्रोसेसर नियंत्रित मीटर ग़ेज (एमजी) लोकोमोटिव्‍स का निर्यात सफलतापूर्वक किया है.
लोकोमोटिव्‍स में माइक्रो-प्रोसेसर नियंत्रण पर आधारित प्रणाली लगी है. डीजल लोकोमोटिव वर्क्‍स, वाराणसी, भारत द्वारा 1350 एचपी एसी/डीसी मुख्‍य लाइन डीजल लोको‍मोटिव जिसकी अधिकतम गति 100 किमी पीएच है, का निर्माण म्‍यांमा रेलवे के लिए किया गया है. ये नवीनतम सुविधाओं से सु‍सज्जित अत्‍यंत ईंधन कुशल है तथा ईंधन खपत की लागत भी कम है.
राइट्स के म्‍यांमा रेलवे के साथ वर्ष 1998 से संबंध हैं. यह रेल रोलिंग स्‍टॉक (लोकोमोटिव्‍स, कोच, वैगन, पी वे रखरखाव वाहन), रेल इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर का अनुरक्षण, तकनीकी अध्‍ययन, म्‍यांमा के रेल अधिकारियों के लिए प्रशिक्षण प्रदान करने से भी जुड़ा हुआ है. राइट्स ने म्‍यांमा रेल को कम अनुरक्षण एवं उच्‍च विश्‍वसनीयता वाले 60 मीटर ग़ेज लोको‍मोटिव्‍स की आपूर्ति की है. 

राइट्स म्यां मार में सड़क एवं रेल परियोजनाओं की व्यैवहार्यता एवं सिविल इंजीनियरिंग सर्वे की विभिन्नए अन्य् गतिविधियों में भी कार्य कर रही है.
रेल राज्य मंत्री की इस यात्रा से निश्चित रूप से दोनों देशों के बीच रेलवे के क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंधों के लिए और अधिक अवसर उपलब्धी होंगे.

 
साइटमैप | अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न | कर्मचारी पोर्टल | पूर्व कर्मचारी पोर्टल | शिकायतें | निरीक्षण पोर्टल | मुख्य लिंक | प्रतिक्रिया